प्रशिक्षण शाखा

एनसीआरबी का एक उद्देश्य देश में पुलिस बलों की क्षमता निर्माण के लिए आईटी और अंगुलि छाप विज्ञान में प्रशिक्षण प्रदान करना है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो की प्रशिक्षण शाखा इस लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में हर संभव प्रयास कर रही है।

प्रत्येक वर्ष यह शाखा भारतीय पुलिस अधिकारियों के लिए औसतन 60 प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करती है। इन पाठ्यक्रमों की अवधि 3 दिन से 2 सप्ताह तक होती है। "साइबर अपराध और डिजिटल फॉरेंसिक", "कानून प्रवर्तन में सूचना प्रौद्योगिकी", "डेटा एनालिटिक्स", "अपराध अपराधी ट्रैकिंग और नेटवर्क सिस्टम", "सीसीटीएनएस तकनीकी / परियोजना प्रबंधन", "नकली विदेशी मुद्रा नोट", "अंगुलि छाप विज्ञान पर टीओटी", "फ़िंगरप्रिंट साइंस पर पुनःश्चर्या कोर्स", "बेसिक फ़िंगरप्रिंट साइंस", "रंगीन पोर्ट्रेट निर्माण सिस्टम", "भारत में अपराध पर टीओटी", "भारत में दुर्घटना में मृत्यु एवं आत्महत्या पर टीओटी", ”भारत में जेल सांख्यिकी पर टीओटी”, ”तलाश सूचना सिस्टम”, "ऑटोमैटिक फ़िंगरप्रिंट आइडेंटिफिकेशन  सिस्टम पर कार्यशाला” आदि जैसे विभिन्न विषयों पर प्रशिक्षण कैलेंडर के अनुसार नियमित रूप से प्रशिक्षण दिया जाता है।

एनसीआरबी, क्षेत्राधिकारियों को प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षित व्यक्तियों के क्षमता निर्माण के लिए प्रशिक्षक (टीओटी) पाठ्यक्रमों का प्रशिक्षण भी प्रदान करता है। राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के साथ-साथ केंद्रीय पुलिस संगठनों / केंद्रीय सशस्त्र बलों सहित सभी पदों के अधिकारी एनसीआरबी द्वारा आयोजित  प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लेते हैं।

आंतरिक संकाय सदस्य अच्छी तरह से प्रशिक्षित हैं एवं उन्हें प्रशिक्षण का विस्तृत अनुभव है। एनसीआरबी के संकाय सदस्य देश के विभिन्न प्रमुख संस्थानों जैसे "सरदार वल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय पुलिस अकादमी, हैदराबाद", "आरपीसीटीसी", "सीबीआई अकादमी", "लोक नायक जयप्रकाश नारायण राष्ट्रीय अपराध विज्ञान और फॉरेंसिक साइन्स (LNJN NICFS)" आदि में कार्यशालाएं आयोजित करते हैं एवं व्याख्यान देते हैं। एनसीआरबी, व्याख्यान देने के लिए  सीबीआई, एनआईसीएफएस, सीइआरटी-इन, एनटीआरओ,इएसआरआई, NeurIOT और अन्य प्रतिष्ठित सार्वजनिक / निजी संगठनों जैसे आईटी, साइबर अपराध, डिजिटल फॉरेंसिक, अंगुलि छाप विज्ञान आदि जैसे संगठनों से विशिष्ट अतिथि व्याख्याताओं को आमंत्रित करता है ।

2018-2019 से आरंभ किए गए नए पाठ्यक्रम

विधि प्रवर्तन में प्रौद्योगिकी (उप निरीक्षक एवं उससे ऊपर के लिए), मानव-तस्करी विरोधी पर कार्यशाला (पुलिस आरक्षक से उप निरीक्षक/डीईओ के लिए), डाटा विश्लेषण पर कार्यशाला (उप निरीक्षक एवं उससे ऊपर के लिए), आईसीजेएस पर कार्यशाला (सहायक लोक अभियोजक, न्यायिक मजिस्ट्रेट के लिए), एफ़िस पर कार्यशाला (अंगुलि छाप और के.अं.छा.ब्यूरो के अंगुलि छाप विशेषज्ञ के लिए) यौन अपराधी रजिस्ट्री (पुलिस आरक्षक और उप निरीक्षक/डीईओ के लिए)।

2018-19 से आरंभ किए गए नए विषय

क्रेडिट कार्ड और ऑन-लाइन धोखाधड़ी के नवीन चलन, डिजिटल साक्ष्य, साइबर अपराध के विरुद्ध कानूनी ढांचा, डिजिटल साक्ष्य एकत्र करने के लिए एसओपी, टूल्स की सहायता से डिजिटल साक्ष्य से डेटा प्राप्ति, सीडीआर विश्लेषण, इंटरनेट मॉनीटरिंग जैसे विभिन्न विषयों  और टेलीफोन टैपिंग आदि को प्रशिक्षण मॉड्यूल में शामिल किया गया है। इसके अलावा, कुछ विशेष विषय जैसे कि सीसीटीवी फुटेज विश्लेषण, नाइजीरियाई धोखाधड़ी, सफल जांच के मामलों का अध्ययन, सामाजिक मीडिया विश्लेषण से आपराधिक सूचना का संग्रह, एनसीआरबी द्वारा विकसित मोबाइल ऐप आदि को आरंभ किया गया है

प्रशिक्षण पद्धति

मूल रूप से केवल सूचना प्रौद्योगिकी पाठ्यक्रमों से बेहतर जांच और पुलिसिंग के लिए आवश्यक पाठ्यक्रमों की ओर प्रशिक्षण पद्धति स्थानांतरित हो गई है। अनुभव साझाकरण और शंका समाधान सत्र नियमित अंतराल पर आयोजित किए जाते हैं। अनुभवी फैकल्टी द्वारा विशेष विषयों पर अधिक प्रशिक्षण सत्रों का आयोजन किया जाता है। केवल सैद्धांतिक (theory) सत्रों के बजाय हैंड्स-ऑन-सेशन पर जोर दिया जाता है। प्रशिक्षुओं (2 सप्ताह या अधिक अवधि के पाठ्यक्रम) को गहन असाइनमेंट दिए जाते हैं। प्रशिक्षुओं के लिए "साइबर फॉरेंसिक यूनिट", "दिल्ली पुलिस नियंत्रण केंद्र", "एफएसएल दिल्ली" आदि जैसे विभिन्न विशिष्ट यूनिटों के दौरे का प्रबंध किया जाता है।

सांख्यिकी

एनसीआरबी द्वारा संचालित पाठ्यक्रमों की संख्या एवं 30/09/2020 तक प्रशिक्षित अधिकारियों की संख्या निम्नलिखित है:-

एनसीआरबी विदेशी सीसीटीएनएस कुल
पाठ्यक्रम व्यक्ति पाठ्यक्रम व्यक्ति पाठ्यक्रम व्यक्ति पाठ्यक्रम व्यक्ति
809 15406 77 1549 442 16443 1328 33398

ब्यूरो की यह शाखा ब्यूरो के तीन वार्षिक प्रकाशनों के लिए डेटा के कारगर संग्रह के लिए "प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण" पाठ्यक्रम आयोजित करती है। भारत में अपराध, भारत में दुर्घटना मृत्यु और आत्महत्या एवं भारत में जेल सांख्यिकी। अब तक 36 ऐसे पाठ्यक्रम सफलतापूर्वक आयोजित किए गए हैं और कुल 972 प्रतिभागियों को प्रशिक्षित किया गया है। इसके अलावा, राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रों से 5,60,066 पुलिस कर्मियों को सीसीटीएनएस पर सिस्टम इंटीग्रेटर्स द्वारा प्रशिक्षित किया गया था।

क्षेत्रीय पुलिस कम्प्यूटर प्रशिक्षण केंद्र (RCPTC)

चार आरसीपीटीसी (हैदराबाद,गांधीनगर,लखनऊ और कोलकाता में एक-एक) भारतीय पुलिस के कनिष्ठ स्तर के अधिकारियों के लिए समान पाठ्यक्रम संचालित करते हैं। एनसीआरबी द्वारा आरसीपीटीसी में ये पाठ्यक्रम क्षेत्रीय स्तर पर क्षमता निर्माण की सुविधा हेतु प्रायोजित किए जाते हैं। प्रशिक्षण कैलेंडर को साइबर अपराध आदि जैसे नवीनतम तकनीकों पर पाठ्यक्रम आरंभ करके पुनः डिजाइन किया गया है। ब्यूरो, आरसीपीटीसी में आयोजित विभिन्न पाठ्यक्रमों के ब्लॉक सिलेबस को डिजाइन करने में सहयोग करता है।

संचालित पाठ्यक्रमों की संख्या प्रशिक्षित संख्या
1407 33557

01 अप्रैल, 2020 से 30 सितम्बर, 2020 अवधि के दौरान संचालित ऑनलाइन प्रशिक्षण पाठ्यक्रम ( कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान)

कोविड-19 महामारी के कठिन समय में, ई-लर्निंग, दोनों प्रशिक्षुओं के साथ-साथ प्रशिक्षकों के   लिए भी एक प्रभावी विकल्प के रूप में उभरा है। एनसीआरबी पुलिस अधिकारियों के लिए ऑनलाइन प्रशिक्षण और वेबिनार आयोजित करता रहा है। वेबिनार के विषय विभिन्न प्रकार के विषयों पर आधारित हैं, जो विधि प्रवर्तन एजेंसियों के लिए बहुत अधिक समकालीन और विषय-संगत हैं, जिनमें प्रख्यात और प्रतिष्ठित वक्ता व्याख्यान देते हैं। महामारी के दौरान, ब्यूरो ने कुल 8 वेबिनार और 5 ऑनलाइन पाठ्यक्रम आयोजित किए।

1. 01 अप्रैल, 2020 से 30 सितम्बर, 2020  तक अवधि के दौरान निम्नलिखित वेबिनार का आयोजन किया गया।

वेबिनार का विवरण

क्रम सं. वेबिनार का विषय
I आईबीएम कॉगनॉस, विधि प्रवर्तन हेतु मदद
II क्राइमैक
III एआई-जांच हेतु मदद
IV विधि प्रवर्तन एजेंसियों के लिए महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों की खोज
V पुलिस सेवाओं में  स्मार्ट वर्कफोर्स के लिए टेक्नोलाजी और इनोवेशन का लाभ उठाना।
VI अपराध जांच-तकनीकी, कानूनी और प्रक्रियात्मक पहलुओं में डिजिटल फॉरेंसिक ।
VII राष्ट्रीय स्वचालित अंगुलि छाप पहचान पद्धति (नाफ़िस)
VIII डेटा विज्ञान - कानून और व्यवस्था में घटनाओं और प्रयोगों का संक्षिप्त विवरण।

2. 01 अप्रैल, 2020 से 30 सितंबर, 2020 तक ऑनलाइन पाठ्यक्रम आयोजित किए गए और विभिन्न राज्यों / संघ शासित प्रदेशों के प्रतिभागियों को प्रशिक्षित किया गया।

ऑनलाइन पाठ्यक्रम विवरण

क्रम सं. पाठ्यक्रम का नाम पाठ्यक्रम की संख्या
(i) सीसीटीएनएस कार्यशाला 1
(ii) बेसिक सीसीटीएनएस 2
(iii) जांच एवं समन्वय में सूचना प्रौद्योगिकी 1
(vi) साइबर अपराध एवं डिजिटल फॉरेंसिक-रिसपॉन्डर ट्रैक 1
Hindi


Updated On: 07/12/2020
Page View Counter : 2284