डाटा सेंटर और तकनीकी शाखा (डीसीटी)

डाटा सेंटर और तकनीकी शाखा (डीसीटी) की प्रमुख गतिविधियां निमन्वत हैं:-

  • अपराध का पता लगाने, अपराधियों की रोकथाम तथा लोक व्यवस्था को बनाए रखने के विषय में रोज़मर्रा के कार्यकलापों को बेहतर बनाने के उद्देश्य से; अपराध, अपराधियों और संपत्ति के बारे में एक सुरक्षित राष्ट्रीय डाटा बेस का निर्माण करना, उसे अद्यतन बनाए रखना जिससे कि राज्य एवं केंद्रीय एजेंसियों के सभी बलों को सटीक जानकारी समय पर ऑनलाइन उपलब्ध की जा सके।
  • खोये गए और बरामद वाहनों पर एक सुरक्षित डाटाबेस बनाना तथा देश एवं सीमा चौकियों में सभी वाहन काउंटरों को अद्यतन सुविधा प्रदान करना।
  • चुराये गए/बरामद वाहनों (ऑटोमोबाइल) के राष्ट्रीय डाटाबैंक से राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के लिए ‘बरामद वाहनों’ का डाटा प्रदान करना।
  • डाटा सेंटर, ब्यूरो में उपयोग किए जाने वाले विभिन्न एप्लीकेशंस जैसे दर्पण (नेटवर्क मानिटरिंग सिस्टम), बिजनेस इंटेलिजेन्स टूल जैसे कि कॉगनास तथा रोज़मर्रा के काम में आने वाले अन्य सर्वरों की भी व्यवस्था कर रहा है।
  • जाली मुद्रा (एफआईसीएन) पर एक सुरक्षित डाटा बेस का रख-रखाव – यह जाली मुद्रा के डाटा को संकलित करने के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली है। पुलिस, बैंक जांच एजेंसियां, अन्य खुफिया एजेसियों तथा मंत्रालय इसके हितधारक हैं।
  • सीसीटीएनएस की डेवलपमेंट टीम को सीसीटीएनएस सर्वर के परीक्षण एवं डेवपमेंट का माहौल/वातावरण और होस्टिंग प्रदान करना।
  • इस ब्यूरो की विभिन्न शाखाओं को वर्चुअल मशीन (वीएम) एवं डाटा स्टोरेज उपलब्ध कराना और उसका रखरखाव करना।

नेटवर्क रखरखाव की अन्य गतिविधियां

एनसीआरबी के कार्यालय परिसर में लोकल एरिया नेटवर्क (लैन) को स्थापित किया गया है जो महिपालपुर में प्रत्येक मंजिल और सर्वर रूम के बीच यूटीपी और फाइबर आप्टिक्स बैकबोन का प्रयोग करते हुये तीनों स्तरों को कवर करता है।

नेटवर्क मैनेजमेंट सिस्टम (एनएमएस) का प्रयोग नेटवर्क के सही ढंग से कार्य करने की निगरानी के लिए जा रहा है।

नोड्स /प्रशिक्षण लैब जैसे उच्च महत्ता के लोकशन आदि इन हाउस वाई-फ़ाई नेटवर्क के माध्यम से भी जुड़े हुये हैं।

वेबसाइट का रखरखाव

वेबसाइट यह सुनिश्चित करती है कि जो नागरिक जानकारी और सेवाओं की तलाश कर रहे हैं, वे किसी सरकारी भवन में जाये बिना ही ऐसा कर सकें और ऐसा वे किसी भी समय, कहीं पर भी केवल सरकारी कार्यालय की वेबसाइट पर जाकर, कार्यालय की समय सीमा जैसी दिक्कतों के बिना ही कर सकते हैं।

इस ब्यूरो की वेबसाइट अपने हितधारकों को सूचना तथा सेवाएं प्रदान करने में केंद्रीय भूमिका निभाती है। एनसीआरबी तीन वार्षिक रिपोर्ट , जो कि ‘भारत में अपराध’‘भारत में दुर्घटना से मृत्यु एवं आत्महत्यायें’, तथा ‘भारत में जेल सांख्यिकी’ हैं, का प्रकाशन करता है। ये रिपोर्ट पुलिस अधिकारियों शोधकर्ताओं, मीडिया और नीति निर्धारकों के लिए मुख्य संदर्भ दस्तावेज़ हैं। एनसीआरबी ने अपने वार्षिक प्रकाशन ‘भारत में अपराध’ का 1968 के बाद से डिजिटीकरण कर दिया है और एनसीआरबी की वेबसाइट तथा साथ ही गवर्नमेंट पोर्टल पर अपलोड कर दिया है। इस उपलब्धि के लिए एनसीआरबी को डिजिटल इंडिया अवार्ड की ओपन डाटा चैंपियनशिप की श्रेणी में रजत पदक से सम्मानित किया गया है।.

सीसीटीएनएस परियोजना के संबंध में, वेबसाइट पर एक पेज केवल सीसीटीएनएस प्रोजेक्ट के लिए ही निर्धारित है जहां से राज्य तथा सीसीटीएनएस के नोडल अधिकारी और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर – कैस (सीएएस) तथा साथ ही सीससीटीएनएस प्रोजेक्ट से जुड़े प्रश्न(FAQ) भी डाउनलोड कर सकते हैं।

यह राज्यों को समय पर तथा उनकी सुविधा के अनुसार जानकारी प्राप्त करने में सक्षम बनाता है। एक बार पूरी तरह कार्यात्मक हो जाने पर, सीसीटीएनएस नागरिक पोर्टल के माध्यम से नागरिकों को विभिन्न सेवा में प्रदान करने के अलावा, राष्ट्रीय डाटाबेस पर किसी अपराधी संदिग्ध की तलाश करने की अनुमति भी देगा।

वर्तमान में वेंबसाइट निम्नलिखित एप्लीकेशन के माध्यम से नागरिकों तथा अन्य सरकारी संगठनों को सेवाएं प्रदान कर रही है:-

  • क्राइम एवं क्रिमिनल नेटवर्किंग सिस्टम (सीसीटीएनएस)
  • फिंगर प्रिंट एनालिसिस एवं क्रिमिनल ट्रेसिंग सिस्टम (FACTS)–यह देश भर में चोरी और बरामद मोटर वाहनों के समन्वय के लिए एक ऑनलाइन मोटर वाहन समन्वय प्रणाली है। लिस, आरटीओ और बीमा क्षेत्र इसके मुख्य हितधारक हैं। इसके द्वारा आम नागरिक भी लाभान्वित होते हैं।
  • वाहन समन्वय – यह देश भर में चोरी और बरामद मोटर वाहनों के समन्वय के लिए एक ऑनलाइन मोटर वाहन समन्वय प्रणाली है। पुलिस, आरटीओ और बीमा क्षेत्र इसके मुख्य हितधारक हैं। इसके द्वारा आम नागरिक भी लाभान्वित होते हैं।
  • तलाश सूचना प्रणाली- इस प्रणाली का प्रयोग गुमशुदा, ढूंढ लिए गए, अज्ञात व्यक्तियों तथा अज्ञात शवों के बारे में जानकारी बनाए रखने तथा समन्वय के लिए किया जाता है।
  • जाली मुद्रा प्रणाली (एफआईसीएन)-यह जाली मुद्रा डाटा के संकलन के लिए एक ऑनलाइन प्रणाली है। पुलिस, बैंक, जांच एजेंसियां, अन्य खुफिया एजेंसियां और मंत्रालय इस प्रणाली के हितधारक हैं।
  • अग्नेयास्त्र समन्वय प्रणाली-इस प्रणाली का उपयोग गुम हुये/चुराये गए तथा (बरामद) जब्त किए गए आग्नेयास्त्रों के समन्वय के लिए किया जाता है।
  • कलर पोट्रेट बिल्डिंग सिस्टम- इस प्रणाली का उपयोग पीड़ितों और चश्मदीदों द्वारा दिये गए विवरण के आधार पर संदिग्धों के चित्र बनाने के लिए किया जाता है।.

ई-मेल सेवाएं

डीसीटी शाखा में एक ई-मेल सर्वर कमीशन किया गया है जो कि वर्तमान में एनसीआरबी के अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ-साथ सीसीटीएनएस राज्यों/सं.शा.प्रदेशों के नोडल अधिकारियों और कर्मचारियों को ई-मेल खाते प्रदान करने के लिए प्रयोग में लाया जा रहा है। लगभग सभी अधिकारियों/कार्मिकों को उनकी आवश्यकता के अनुसार ई-मेल और अटेचमेंट भेजने/प्राप्त करने के लिए एक यूनिक ई-मेल पता दिया गया है। इस फॉर्मेट में दिया गया पता यूजर नेम [at]ncrb [dot]nic[dot]in है। इसके अलावा, ब्यूरो की ई-मेल सेवाएं सुरक्षित https URL पर उपलब्ध होने के साथ ही वरीय अधिकारियों के मोबाइल पर भी ई-मेल सेवाओं से जुडने के लिए कनफिगर की जा सकती हैं।

इंटरनेट ब्राउज़िंग

एनसीआरबी में लगे हुये सभी कम्प्यूटर बैकबोन लीज्ड लाइन (एमटीएनएल) 64 एमबीपीएस बैंडविड्ध के साथ NICNET पर जुड़े हुये हैं। इसके अलावा, इंटरनेट सेवाओं को सक्षम प्रॉक्सी सर्वरों के माध्यम से बढ़ाया गया है। सरकारी काम-काज करने के लिए ब्यूरो के सभी कार्मिकों को इंटरनेट सेवाएं प्रदान करने के लिए एक अतिरिक्त कनेक्शन का भी उपयोग किया जा रहा है। साथ ही वरीय अधिकारियों द्वारा तय की गई नीति के अनुसार नेट फिल्टरिंग को भी लागू किया गया है।

ई-सिक्योरिटी समाधान

एनसीआरबी के महत्वपूर्ण सर्वर और डाटाबेस को किसी भी तरह के खतरे, आंतरिक या बाहरी उपयोगकर्ता से हुये जोखिम आदि से सुरक्षित रखने के लिए ब्यूरो ने विभिन्न सुरक्षा उत्पादों जैसे कि फायरवाल, आईपीएस, एंटी वाइरस आदि का भी उपयोग किया है। एंटी-वायरस सॉफ्टवेयर के साथ एक सक्षम सर्वर को लगाया गया है। यह सर्वर स्वचालित रूप से नवीनतम एंटी वायरस पैच डाउनलोड करता है तथा उन्हें नियमित आधार पर नेटवर्क से जुड़ी क्लाईंट मशीनों में किसी भी वायरस/वर्म को प्रतिदिन स्कैन करता है।

पैच मैनेजमेंट सर्वर

इस शाखा में एक सक्षम पैच मैनेजमेंट सर्वर कनफिगर किया गया है। यह स्वचालित रूप से आवश्यक पैच डाउनलोड करता है और कनेक्ट करने के लिए उन्हें कनेक्टेड कलाइंट और सर्वर मशीनों को ओर पुश करता है। वर्चुअल मशीनें, उपयोगकर्त्ताओं की जरूरत के आधार पर, एप्लीकेशन की आवश्यकता के अनुसार प्रदान की जाती हैं।

वर्चुअल इन्फ्रास्ट्रक्चर

ब्यूरो उपलब्ध हार्डवेयर संसाधनों का अधिकतम उपयोग करने के लिए वर्चुअल सर्वर पर माइग्रेट करने की प्रक्रिया में है।

टेलीफोन (सिस्टम) प्रणाली

किसी भी संगठन में, टेलीफ़ोन संचार का सबसे सरल माध्यम हैं। सन 2007 से ही, ब्यूरो के सभी सदस्यों को आंतरिक और बाहरी टेलीफोन कनेक्टिविटी दिये जाने का कार्य भी इस शाखा के पास है। एक सक्षम ईपीएबीएक्स सिस्टम के माध्यम से ब्यूरो के अधिकारियों को यह सुविधा उपलब्ध है कि वे बाहरी एजेंसियों को कॉल कर सकें, साथ ही कुछ अधिकारियों को उनकी आवश्यकतानुसार यह सुविधा भी दी गई है कि वे सीधी लाइन के द्वारा बाहरी एजेंसियों से संपर्क कर सकें। ब्यूरो के पास सभी टेलीफ़ोन सुविधाओं को अपने अधिकारियों / कार्मिकों तक पहुंचाने के लिए एमटीएनएल का पीआरआई कनेक्शन है।

खरीद (Procurement)

एनसीआरबी के विभिन्न प्रभागों में आवश्यकतानुसार आईटी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर की खरीद और उनके रखरखाव और सही प्रकार से चलने की निगरानी करना।

24X7 कंट्रोल रूम

संगठन के लिए एक कंट्रोल रूम के तौर पर 24 घंटे कार्य करना।

Hindi


Updated On: 13/05/2020
Page View Counter : 694